पंचमुख Meaning in English

पंचमुख Meaning in Hindi

  1. 1. पाँच मुखों वाला
Usage

1. इस मंदिर में पंचमुखी शिव की प्रतिमा है ।

Synonyms
  1. 1. एक तरह का रुद्राक्ष
Usage

1. पंचमुख में पाँच लकीरें होती हैं ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 2. एक सृष्टिनाशक हिन्दू देवता
Usage

1. शंकर की पूजा लिंग के रूप में प्रचलित है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
 
पंचमुख meaning in Hindi, Meaning of पंचमुख in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of पंचमुख

अपराधभंजन,  अरिंदम,  पंचानन,  धूम्र,  पुद्गल,  अंड,  विवुध,  अनलमुख,  अमृततप,  दिवौका,  अनंगरि,  अम्बरीष,  संवत्सर,  शंभु,  असुरारि,  चन्द्रशेखर,  भोलानाथ,  शंकर,  शम्भु,  हर,  योगीश,  राकेश,  काशीनाथ,  अंधकारि,  द्युनिवास,  त्रिदश,  त्रिनेत्र,  मालाफल,  कामारि,  त्र्यक्ष,  शारंगपाणि,  शिखण्डी,  भूतनाशन,  आदितेय,  द्युनिवासी,  पञ्चमुखी,  शिवाक्ष,  वसुप्रद,  भवेश,  नदीधर,  फाल,  इन्दुशेखर,  वृंदारक,  ययी,  शशिभूषण,  महार्णव,  मालामणि,  अक्षमाली,  भूतनाथ,  देवता,  भोलेनाथ,  कपालपाणि,  कालेश,  पश,  अमानुष,  नंदिकेश्वर,  रुद्राक्ष,  शङ्कर,  देव,  सुचिरायु,  वृषभकेतु,  वीरेश,  पञ्चमुख,  विरुपाक्ष,  सुर,  जगद्योनि,  शिखंडी,  अयोनिज,  गंगाधर,  भालचंद्र,  देवक,  कुंड,  गिरीश,  नभश्चर,  भुवनेश,  नपराजित,  विश्वप्स,  अदित,  परंजय,  यमेश्वर,  कपाली,  आशुतोष,  गौरीश,  पादभुज,  महाक्रोध,  अनर्थनाशी,  शारंगपानि,  शशिधर,  महेश,  मृत्युंजय,  दैत्यारि,  पंचमुखी,  देवेश्वर,  विभु,  अण्ड,  भूतकृत,  उमाकान्त,  भालचन्द्र,  अहिमाली,  गीर्वाण,  त्र्यंबक,  उग्रधन्वा,  सर्पमाली,  दनुजारि,  त्र्यम्बक,  सद्य,  अमर,  त्रिदिवेश,  रुद्र,  भव,  महादेव,  बीजवाहन,  चंद्रशेखर,  अबलाबल,  शिव,  इंदुशेखर,  पार्श्ववक्त्र,  जटाधारी,  सतीश,  अमृतबन्धु,  भूतेश,  अंबरौका,  कैलाश नाथ,  नीलग्रीव,  त्रिपुरारि,  त्रिपुरारी,  अब्जवाहन,  तारकेश्वर,  दैवत,  अर्घेश्वर,  वैद्यनाथ,  भोला,  योगीनाथ,  विद्वत्,  सर्वाक्ष,  मधुप,  उमाकांत,  मंगलेश,  भगाली,  नागी,  सुहृद,  सर्व,  अन्नपति,  पिनाकी,  अक्षतवीर्य,  वीरेश्वर,  त्रिपुरांतक,  कुण्ड,  दुष्काल,  कैलाशनाथ,  अनंगारि,  नन्दिकेश्वर,  ऋभु,  पशुपति,  ययातीश्वर,  देवाधिदेव,  त्रिदिवौकस,  भूतचारी,  कील,  अमृताशन,  अमृतबंधु,  गिरिनाथ,  उमेश,  महेश्वर,  वरेश्वर,  आकाशचारी,  पञ्चमुखी रुद्राक्ष,  विश्वनाथ,  जटामाली,  सवर,  अयोनि,  नाभ,  भट्टारक,  पंचमुखी रुद्राक्ष,  व्योमकेश,  विरोचन,  आदित्य,  पिनाकपाणि,  अंबरीष,  अघोरनाथ,  सुप्रतीक,