बरही Meaning in English

बरही Meaning in Hindi

  1. 1. एक तरह की मोटी रस्सी जो भारी समान आदि उठाने के काम आती है
Usage

1. किसान खेत हेंगाने के लिए हेंगा और बरही ले आया ।

Hypernyms
  1. 2. संतान उत्पन्न होने के दिन से बारहवाँ दिन
Usage

1. हमारे यहाँ बरही का विशेष महत्व होता है ।

Hypernyms
  1. 3. जलाऊ लकड़ियों का गट्ठा
Usage

1. उसने बरही को सिर से उतारकर आँगन में रख दी ।

Hypernyms
  1. 5. एक छोटा जंगली जन्तु जिसके शरीर पर काँटे होते हैं
Usage

1. कई धार्मिक अनुष्ठानों में साही के काँटे की आवश्यकता पड़ती है ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 7. नर मयूर या मोर
Usage

1. मोर और मोरनी का जोड़ा चारा चुग रहा है ।

Synonyms
Hypernyms
Antonyms
  1. 8. एक अत्यंत सुंदर बड़ा पक्षी जिसकी पंखनुमा पूँछ लम्बी होती है
Usage

1. मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 9. जलती हुई लकड़ी, कोयला या इसी प्रकार की और कोई वस्तु या उस वस्तु के जलने पर अंगारे या लपट के रूप में दिखाई देने वाला प्रकाशयुक्त ताप
Usage

1. आग में उसकी झोपड़ी जलकर राख हो गई ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
Antonyms
 
बरही meaning in Hindi, Meaning of बरही in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of बरही

नीलकण्ठ,  राजसारस,  कालकंठ,  नैसर्गिक वस्तु,  करंज,  सेधा,  वह्नि,  युक्ति,  ध्वांतशत्रु,  ध्वान्ताराति,  पत्रवाह,  रसनारव,  गट्ठा,  सेही,  द्विज,  अगिया,  अमिताशन,  रीति रस्म,  प्रथा,  रक्तवर्त्मा,  अरुणशिखा,  अन्तरिक्षसत्,  गर्भज जंतु,  शिखाधार,  अंतरिक्षसत्,  मुरगा,  जरायुज जीव,  रीति रिवाज,  तनूनपाद्,  आतश,  शापटिक,  रस्मो-रिवाज़,  अगिर,  परंपरा,  रस्मो रिवाज़,  श्वाविध,  रसाखन,  वृषी,  नभसंगम,  रसरी,  दिहाड़ी,  शिखाधर,  लाव,  चंद्रकी,  रात्रिवेद,  पंखी,  नीलकंठ,  गट्ठर,  कालकवि,  पर्परीक,  अशिर,  अर्दनि,  पालतू पक्षी,  तमोहपह,  आशर,  शिखंडी,  सिलसिला,  चाल,  अग्नि,  विहंग,  ध्वान्तशत्रु,  तनूनपात्,  शल्लकी,  क़ायदा,  पत्रवाज,  मायूर,  लघुलय,  जरायुज जंतु,  पक्षी,  उड़ु,  इतिकर्तव्यता,  दिनमान,  पत्ररथ,  शुक्र,  कायदा,  चित्रमेखल,  रीति-रस्म,  पतंगम,  अगन,  चन्द्रकी,  पावक,  चिड़िया,  बर्ही,  प्रपादिक,  रस्म रिवाज,  ताम्रचूड़,  दामरी,  घनप्रिय,  दामरि,  पुँछार,  आगी,  बाहुलग्रीव,  आगि,  पाँखी,  ताम्रशिखी,  पिण्डज जन्तु,  चित्रभानु,  आहन,  वर्ही,  रस्मो रिवाज,  वर्हा,  यामघोष,  द्विपक्ष,  खग,  जेवरी,  शल्यकंठ,  आत्मघोष,  अय,  जिह्वारद,  प्रवलाकी,  मोर,  नागांतक,  पंछी,  आग,  पतत्रि,  दाँवरी,  अह,  रीति-रिवाज,  तपुर्जंभ,  मेघानंद,  वसु,  पशुपति,  पांखी,  मुर्गा,  धरुण,  कुलंग,  रिवाज,  अनल,  जरायुज जन्तु,  चलन,  अवतरणी,  साही,  द्विजाति,  रीति,  अर्जुन,  वसुनीथ,  अहिरिपु,  चित्रपिच्छक,  शुक्लापांग,  आतिश,  रस्म व रिवाज,  मलिनमुख,  दस्तूर,  शतपत्र,  परिन्दा,  दिवाचर,  दाढ़ा,  दिवा,  वैश्वानर,  वराटक,  पतय,  पतम,  राजन्य,  परिंदा,  रस्म-रिवाज,  विंगेश,  दिव्,  तपुर्जम्भ,  शिखी,  रेसमान,  शिखि,  शुचि,  प्रसिति,  नीज,  गर्भज जन्तु,  उड़ुचर,  परिजन्मा,  अवतरणिका,  बहनी,  भारत,  वराट,  शिखण्डी,  तंति,  केहा,  जगन्नु,  शुक्रांग,  पालतू चिड़िया,  प्राकृतिक वस्तु,  दीप्ताङ्ग,  पतग,  अर्की,  वृष्णि,  तमोनुद,  आश्रयास,  दिन,  अर्क,  जेवड़ी,  तपस,  द्यु,  मेघसुहृद,  तपु,  केकी,  वर्षामद,  बर्हिण,  दिव,  शौण्ड,  वचर,  शुक्रभुज,  दिवस,  पाखी,  नागान्तक,  नभश्चर,  परिपाटी,  कुक्कुट,  नीड़ज,  अगनी,  विश्वप्स,  मरुक,  कलापी,  व्युष्ट,  नियम,  विहग,  नीड़क,  निशावेदी,  पतंगी,  पखेरू,  रज्जु,  कुण्डली,  आज्यमुक,  डोरी,  कालकण्ठ,  पतन्,  दाहक,  अनिलसखा,  शिखावल,  अरुनशिखा,  शिखावर,  सर्पद्विष,  रस्मो-रिवाज,  अरुनचूड़,  हुतासन,  मेघानन्द,  बाहुल,  कुंडली,  मार्जारक,  बरहौं,  शाही,  रस्सी,  हृषु,  शिखाल,  ताऊस,  नीलपृष्ठ,  अगिन,  सोमगोपा,  अभिधानी,  शिखालु,  यविष्ठ,  रस्म,  मयूक,  हेमकेली,  मयूर,  मेनाद,  दीप्तांग,  जल्ह,  अगिआ,  शौंड,  बरहा,  विहंगम,  परम्परा,  शल्लक,  आकाशचारी,  पत्रती,  ध्वांताराति,  आशुशुक्षणि,  नागवारिक,  पर्णवी,  पवन-वाहन,  अरुणचूड़,  पिंडज जंतु,