रञ्जन Meaning in English

रञ्जन Meaning in Hindi

  1. 1. रंगने की क्रिया या भाव
Usage

1. वह कपड़े की रँगाई कराने के लिए रंगरेज की दूकान गया है । / एक कमरे की रँगाई में ही सारा रंग समाप्त हो गया ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 2. शरीर के अंदर का एक तरल पदार्थ जो यकृत में बनता है और पाचन में सहायक होता है
Usage

1. पित्त भोजन पचाने में सहायक होता है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 3. एक प्रकार का तृण जो छप्पर आदि छाने के साथ-साथ धार्मिक अनुष्ठानों में भी काम आता है
Usage

1. इस सड़क के किनारे जगह-जगह मूँज उगी हुई है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 7. एक बहुमूल्य पीली धातु जिसके गहने आदि बनते हैं
Usage

1. आजकल सोने का भाव आसमान छू रहा है। / चैतन्य महापुरुष के शरीर से स्वर्ण जैसी आभा निकलती थी ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
 
रञ्जन meaning in Hindi, Meaning of रञ्जन in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of रञ्जन

साधक,  मुक्तचंदन,  वर्णि,  मनोहर,  सुवरन,  जातिफल,  तार्क्ष्य,  पेड़,  तरु,  दारुसार,  अश्मकर,  शिखरी,  सुमन फल,  साखी,  त्रिनेत्र,  प्रतिबन्धक,  अरुन,  अरुण,  रसविरोधक,  खाद्यफल,  कांचन,  महावरा,  साखि,  सुवर्ण,  ताम्रवृक्ष,  काञ्चन,  विटप,  तृण,  जातीफल,  कृत्य,  रक्त,  शातकुम्भ,  जर्ण,  चन्दन,  अर्कचन्दन,  श्रीवास,  अमन्द,  शातकौम्भ,  कञ्चन,  स्कंधी,  मालय,  पित्ताग्नि,  महागंध,  शतकौम्भक,  अग्नि,  खाद्य-फल,  अभ्र,  रक्तांग,  शतखण्ड,  रंगाई,  रुक्ष,  सारंग,  रक्त चंदन,  शुक्र,  शारी,  असथन,  तिलपर्णी,  दत्र,  रंजन,  तरुवर,  शतखंड,  शारीरिक द्रव पदार्थ,  भद्र,  दरख़्त,  द्विधात्मक,  अवष्टंभ,  ताम्रसार,  आमाल,  ताम्रसारक,  मोहना,  शातकुंभ,  अग,  रक्तावत,  नख्ल,  स्कन्धी,  रँगाई,  इक्ष्वांलिका,  अनोकह,  मालती,  प्रबालफल,  अमंद,  कंचन,  खर,  वसु,  मलयज,  सित,  रूखड़ा,  बीरो,  कनक,  तिलपर्णिका,  श्रीमत्कुम्भ,  गोल्ड,  इक्षुकाण्ड,  घास,  शतकुम्भ,  लाल चंदन,  गारुड़,  शारीरिक तरल,  इक्षुकांड,  अवष्टम्भ,  श्रीमत्कुंभ,  पल्लवी,  शतकौम्भ,  मरुत्,  पुरुद,  वैश्वानर,  कार्य,  शिखी,  याम्य,  शतकुंभ,  कर्म,  दरख्त,  सोना,  जायफल,  रक्तसार,  संदल,  जातिसृत,  बहुमूल्य धातु,  पुन्नाग,  अर्क,  पादप,  करनी,  आरक्त,  रक्तार्क,  पित्त,  मूँज,  नख़्ल,  फल,  रूख,  अघ्रिप,  पलङ्कर,  जातीकोश,  श्रीवासक,  स्वर्ण,  जातीकोष,  प्रतिबंधक,  शाद,  मूंज,  पलंकर,  शारीरिक द्रव,  रूखरा,  आग्नेय,  ब्रह्ममेखल,  गंधराज,  रक्ताङ्ग,  रँगावट,  जातिकोश,  बहुतृण,  शारीरिक तरल पदार्थ,  जातीपूग,  रूँख,  शस्य,  जातिकोष,  रक्तचन्दन,  सर्पेष्ट,  अर्कचंदन,  काम,  हिरण्य,  अर्ह,  चंदन,  कृति,  लाल चन्दन,  ज़र,  आसना,  वरवर्ण,  जातिशस्य,  जातीसार,  मुक्तचन्दन,  खाद्य फल,  द्रुम,  भूमिजात,  रङ्गाई,  अष्टापद,  मालतीफल,  जातिसार,  रक्तचंदन,  विटपी,  ताम्राभ,  कुसुमफल,  हेम,  वृक्ष,  शतकौंभ,  मूज,  पुलाकी,  पलाग्नि,  हाटक,  शतकौंभक,  करम,  जाती,  चामीकर,  तामरस,  शातकौंभ,