वातारि Meaning in English

वातारि Meaning in Hindi

  1. 1. रेंड़ के बीज जो औषध के काम आते हैं और जिनका तेल रेचक होता है
Usage

1. वैद्यराज एरंड के तेल से दवा बना रहे हैं ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 3. एक जंगली वृक्ष का फल जो विषैला होता है
Usage

1. भिलावाँ को दूध में उबालकर पीने से कमर,घुटने आदि के दर्द से राहत मिलती है ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 4. एक प्रकार का कंद जो सब शाकों में श्रेष्ठ माना गया है
Usage

1. मधुमेह के रोगियों को सूरन नहीं खाना चाहिए ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 10. एक पौधा जिसके डंठल डंडे के आकार के होते हैं
Usage

1. थूहर के डंठलों और पत्तों में से विषैला दूध निकलता है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 11. छह से बारह फुट ऊँचा एक सदाबहार पौधा जिसमें अरहर के समान पाँच-पाँच पत्तियाँ होती हैं और इसके पूरे शरीर पर छोटे-छोटे रोम पाए जाते हैं
Usage

1. निर्गुडी की जड़ और पत्तियाँ औषध के रूप में प्रयुक्त होती हैं ।

Synonyms
Hypernyms
 
वातारि meaning in Hindi, Meaning of वातारि in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of वातारि

शतपदी,  वज्रकण्टक,  वज्र-कण्टक,  आमोदा,  अंड,  तीव्रकंठ,  रंगी,  पत्रगुप्त,  दुर्गा,  दीपनीया,  दिव्या,  पेड़,  तरु,  अजवाईन,  कंद,  शिखरी,  वरा,  बस्तमोदा,  साखी,  ज़मीकन्द,  निर्गुण्डी,  वज्र-कंटक,  प्रतिबन्धक,  एण्ड,  बीज,  निर्गुंठी,  सिंदुवार,  वृषाकपायी,  वज्रा,  सिन्दुवार,  शतमूली,  निशिपुष्पिका,  वल्लिका,  साखि,  नील पौधा,  शुक्लांगी,  अजगन्धा,  तैलवल्ली,  अरण्ड,  विटप,  कंदशूरण,  शुक्लांगा,  शेफालिका,  निर्गुण्ठी,  जर्ण,  अर्शहर,  अमन्द,  रेण्ड़,  दीर्घदण्ड,  रक्तवृंता,  अशन,  अरंड,  स्कंधा,  वज्रकंटक,  स्कंधी,  एरंड,  थूहड़,  श्वेतराजी,  दीर्घदंड,  दूली,  नीरिंदु,  शूलहंत्री,  अग्नि,  वल्लरि,  वल्लरी,  पत्रघ्ना,  अजवाइन,  सिन्धुसहा,  अजमोदा,  अरण्डी,  रुक्ष,  ओल,  सिन्धुराव,  वज्रकन्द,  बल्ली,  वेल्लि,  शुक्र,  यवानी,  वल्लि,  वल्ली,  अण्ड,  तरुवर,  नारायणी,  जमीकंद,  रेंड़,  दरख़्त,  अन्तःसत्वा,  उड़प,  शतमली,  अर्शोघ्न,  सिंधुवार,  सतावरी,  सेहुँड़,  शितावर,  कुलिश वृक्ष,  त्रिकंचक,  अजमोदिका,  भिलावाँ,  महाबला,  उग्रगंधा,  अग,  तीव्रगंधा,  शतजटा,  प्रसून,  इष्ट,  उग्रगन्धा,  वीरुध,  अर्शसूदन,  अरुष्क,  नख्ल,  स्कन्धी,  स्कन्धा,  रेड़,  एस्पेरेगस रेसिमोसस,  रंगपत्री,  रेंड़ी,  निशिपुष्पा,  अनोकह,  निर्गुंडी,  निशिपुष्पी,  बीया,  सेहुड़,  नदीकांत,  अमंद,  निशाहसा,  महाशीता,  बेल,  सूरन,  थूहर,  अजमूद,  तीव्रा,  सिंहतुण्ड,  यमानिका,  रूखड़ा,  बीरो,  ब्रह्मदर्भा,  मेघवर्षा,  शीतमंजरी,  रेंड,  समन्तदुग्धा,  शीतसहा,  अनल,  समंतदुग्धा,  जमींकन्द,  अजगंधा,  शाखाकंट,  शतावर,  अंतःसत्वा,  जटामाँसी,  शतपुत्री,  पीलुमूल,  पल्लवी,  असिता,  वस्तमोदा,  अनलमुख,  जमींकंद,  आत्मशल्या,  दीर्घदंडक,  नखालु,  सिंधुक,  नागद्रुम,  शीतमञ्जरी,  शितनिर्गुंडी,  तीव्रकण्ठ,  महावृक्ष,  मधुरा,  शिखी,  आहार मसाला,  व्रतती,  कन्द,  रंगलासिनी,  व्रतति,  वज्रकंद,  नीली,  यमानी,  अमरकंटिका,  भूतनाशन,  बहुदुग्धा,  रङ्गी,  दरख्त,  शचि,  नील,  शितनिर्गुण्डी,  वज्रतुंड,  श्वेतपुष्प,  ऋष्यप्रोक्ता,  शची,  निर्गुठी,  श्रीफली,  अर्क,  अमरकण्टिका,  रेवा,  तीव्रगन्धा,  पादप,  सीहुँड़,  वज्रतुण्ड,  रुच्यकंद,  शतावरी,  सिंधुराव,  नख़्ल,  नदीकान्त,  सेहुंड़,  निर्गुडी,  हस्ती,  फर,  शतवीर्या,  फल,  रूख,  अघ्रिप,  लती,  लता,  ज़मीकंद,  शिखिमोदा,  पवि,  दरकण्ठिका,  प्रतिबंधक,  ढेरा,  अरंडी,  रूखरा,  नीलपुष्पिका,  ब्याघ्रपुच्छ,  वज्रद्रुम,  द्वीपशत्रु,  एंड,  मसिका,  दूलिका,  उड़ुप,  दरकंठिका,  रवक,  पीवरी,  रूँख,  पौधा,  सिहोर,  रङ्गलासिनी,  सिन्धुक,  शेफाली,  व्याघ्रपुच्छ,  शेफालि,  अंडी,  ब्रह्मकुशा,  भिलावा,  नरप्रिय,  भूतिक,  जमीकन्द,  अमर,  अंडा,  सिंहतुंड,  केशिका,  अण्डा,  अण्डी,  सीहुँड,  यूका,  दीर्घदण्डक,  अजवायन,  रक्तवृन्ता,  शिफा,  मसाला,  रेण्ड,  अजमोद,  आसना,  उग्रा,  सिहोड़,  द्वीपिका,  मिषिका,  द्रुम,  एरण्ड,  सिन्धुवार,  भूमिजात,  त्रियामा,  शाखाकण्ट,  सिंधुसहा,  विश्वा,  सेंहुड़,  सिंभालू,  चित्रा,  शतनेत्रिका,  ब्रह्मकोशी,  शूलहन्त्री,  तीव्रगन्धिका,  सतावर,  मला,  सेहुर,  विटपी,  वृक्ष,  तीव्रगंधिका,  दीपनी,  पुलाकी,  सेहुँड़ा,  वीज,  व्रणह,  रुच्यकन्द,  पौदा,  वृष्या,  असार,  महारूख,