विजया Meaning in English

विजया Meaning in Hindi

  1. 1. पार्वती की एक सहेली
Usage

1. विजया का वर्णन पुराणों में मिलता है ।

Hypernyms
  1. 2. एक मात्रिक छंद
Usage

1. विजया में दस मात्राएँ होती हैं ।

Hypernyms
  1. 4. यम की पत्नी
Usage

1. धूम्रोप्पाँ का वर्णन पुराणों में मिलता है ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 5. आश्विन शुक्लपक्ष की दशमी को मनाया जानेवाला एक हिंदू त्योहार
Usage

1. पूर्वी भारत में दशहरे का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 6. एक पौधे की पत्ती जिसका सेवन करने से नशा होता है
Usage

1. होली के दिन मैंने भाँग मिला शरबत पी लिया था ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 7. एक पौधा जिसकी पत्तियाँ लोग नशे के लिए पीसकर पीते हैं
Usage

1. वह चोरी-छिपे भाँग की खेती करता है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 9. हल्का हरापन लिए हुए पीले रंग का एक फल जो औषध के काम आता है
Usage

1. हर्र का उपयोग सूखी खाँसी में भी होता है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 10. एक देवी जिन्होंने अनेक असुरों का वध किया और जो आदि शक्ति मानी जाती हैं
Usage

1. नवरात्र में लोग जगह-जगह दुर्गा की प्रतिमा स्थापित करते हैं ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
 
विजया meaning in Hindi, Meaning of विजया in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of विजया

सब्जा,  अपर्णा,  शुम्भघातिनी,  दुर्गा,  दिव्या,  पेड़,  तरु,  वर्ण-वृत्त,  प्रगल्भा,  शिखरी,  चामुंडेश्वरी देवी,  साखी,  शताक्षी,  प्रतिबन्धक,  जया,  वज्रा,  शिवसुन्दरी,  नन्दिनी,  खाद्यफल,  जगदम्बिका,  इंद्राशन,  वेष्टा,  चामुंडेश्वरी,  वृत्त,  साखि,  सिंहवाहिनी,  ईसानी,  ललिता,  पत्ती,  वर्ण वृत्त,  वर्णिकवृत्त,  विटप,  जर्ण,  अमन्द,  मंगलचंडिका,  हरितकी,  बूटी,  स्कंधी,  महाश्वेता,  भंग,  कौशिकी,  शारदा,  महाप्रकृति,  गायत्री,  वार्त्ता,  शंभुकांता,  आद्या,  मात्रिक छन्द,  शिवसुंदरी,  भालचंद्र,  खाद्य-फल,  अपराजिता,  फेस्टिवल,  जगन्मोहिनी,  वर्णिक छंद,  विश्वकाया,  इंद्राणी,  रुक्ष,  वर्णिकछंद,  वर्णिक वृत्त,  अभया,  सीमा,  हर्र,  तरुवर,  नंदिनी,  भालचन्द्र,  पौराणिक औरत,  दरख़्त,  वामदेवी,  बंग,  पाचनी,  नैऋती,  इन्द्राशन,  कालदमनी,  पौराणिक महिला,  नन्दा,  शुंभघातिनी,  अग,  गौतमी,  नख्ल,  स्कन्धी,  अव्यथा,  रेवती,  पौराणिक स्त्री,  अनोकह,  अमंद,  शुंभमर्दिनी,  शुभंकरी,  शुम्भमर्दिनी,  पर्वतात्मजा,  जगदंबिका,  वर्णवृत्त,  रूखड़ा,  बीरो,  जगदंबा,  महिषासुरमर्दिनी,  चामुण्डा,  बहुभुजा,  भूतनायिका,  मात्रिक छंद,  सब्ज़ा,  शम्भुकान्ता,  वर्णिक छन्द,  योगेश्वरी,  पर्व,  देवी,  पल्लवी,  दशहरा,  महोग्रा,  हड़,  त्योहार,  मंजुनाशी,  वार्णिक छन्द,  शुद्धि,  शिखी,  अमोघा,  शांभवी,  मुनिभेषज,  हयग्रीवा,  योगीश्वरी,  वार्णिक छंद,  दरख्त,  ब्राह्मी,  वर्णिक-वृत्त,  अर्क,  नाभक,  पादप,  शाम्भवी,  मादनी,  सौम्या,  नख़्ल,  शिवा,  त्रिभुवनसुन्दरी,  त्रिनयना,  रूख,  अघ्रिप,  इन्द्राणी,  वृषध्वजा,  जगन्माता,  प्रतिबंधक,  अष्टभुजा,  पौराणीय महिला,  नंदा,  अमृतमालिनी,  ईशानी,  रूखरा,  भांग,  वरालिका,  पथ्या,  मातेश्वरी,  मंगलचण्डिका,  कल्याणी,  रूँख,  पौधा,  रसायनफला,  फ़ेस्टिवल,  महायोगेश्वरी,  आदि शक्ति,  हैमवती,  त्रिभुवनसुंदरी,  सर्वमंगला,  हरड़ा,  शिवानी,  आर्या,  अपरा,  धूम्रोप्पाँ,  आसना,  उग्रा,  कौतुक,  भङ्ग,  त्यौहार,  त्वाष्टी,  खाद्य फल,  चामुंडा,  द्रुम,  इड़ा,  शाका,  भूमिजात,  वर्णिकछन्द,  हरड़,  विजयदशमी,  वरवर्णिनी,  त्रिदशेश्वरी,  विटपी,  परमेश्वरी,  योगमाता,  हर्रा,  वृक्ष,  आदिशक्ति,  भाँग,  शक्रतरु,  हर्रे,  पुलाकी,  विजयादशमी,  माया,  महामाया,  ईशा,  पौदा,  शाक्री,  त्रैलोक्यविजया,  हरीतकी,  वैष्णवी,