वैश्वानर (vaizvAnara) Meaning in English

वैश्वानर (vaizvAnara) Meaning in Hindi

  1. 2. शरीर के अंदर का एक तरल पदार्थ जो यकृत में बनता है और पाचन में सहायक होता है
Usage

1. पित्त भोजन पचाने में सहायक होता है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 3. जलती हुई लकड़ी, कोयला या इसी प्रकार की और कोई वस्तु या उस वस्तु के जलने पर अंगारे या लपट के रूप में दिखाई देने वाला प्रकाशयुक्त ताप
Usage

1. आग में उसकी झोपड़ी जलकर राख हो गई ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
Antonyms
  1. 4. धर्मग्रंथों द्वारा मान्य वह सर्वोच्च सत्ता जिसे सृष्टि का स्वामी माना जाता है
Usage

1. ईश्वर सर्वव्यापी है । / ईश्वर हम सबके रक्षक हैं ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
 
वैश्वानर meaning in Hindi, Meaning of वैश्वानर in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of वैश्वानर

साधक,  कामद,  नैसर्गिक वस्तु,  वह्नि,  जीवेश,  ध्वांतशत्रु,  ध्वान्ताराति,  इसर,  असुर,  चिन्मय,  ह्रस्वकर्ण,  अगिया,  परमेश्वर,  ईसर,  लम्बकर्ण,  अमिताशन,  रक्तग्रीव,  दीनबन्धु,  यातुधान,  तोयात्मा,  सर्वोच्च सत्ता,  कर्त्ता,  अर्य्य,  अन्तर्यामी,  भवेश,  तनूनपाद्,  आतश,  जगन्नियन्ता,  अगिर,  कर्बुर,  कर्ता,  भगवान,  चिन्तामणि,  अधिपुरुष,  अवगति,  विश्वात्मा,  नृमर,  अमानुष,  विश्वभर्ता,  अन्तर्ज्योति,  विश्वधाम,  परम सत्ता,  कालकवि,  दीन-बन्धु,  ध्वांतचर,  परमपिता,  आसर,  पर्परीक,  अखिलेश्वर,  अशिर,  अर्दनि,  पित्ताग्नि,  तमोहपह,  आशर,  परमानन्द,  विश्वपति,  रजनीचर,  कर्ता-धर्ता,  अग्नि,  क़िबला-आलम,  अव्यय,  इलाही,  अंतर्यामी,  ध्वान्तशत्रु,  तनूनपात्,  जगदानंद,  नित्यमुक्त,  ख़ालिक़,  लघुलय,  आदिकर्ता,  शुक्र,  रंजन,  प्रधानात्मा,  कैकस,  शारीरिक द्रव पदार्थ,  अगन,  अखिलेश,  सर्वोच्च शक्ति,  बोधि,  पावक,  रात्रिबल,  विश्वभावन,  दैत,  ऊपरवाला,  दई,  रात्रिमट,  कर्ताधर्ता,  चिदाकाश,  आस्रप,  आगी,  आगि,  चित्रभानु,  रैनचर,  वर्हा,  योग,  कर्बर,  पलाद,  निशाविहार,  दैत्य,  नैकषेय,  दतिसुत,  विश्वभाव,  भगवान्,  अय,  राक्षस,  आग,  कीलालप,  विश्वम्भर,  तमीचर,  नैऋत,  तपुर्जंभ,  योजन,  त्रयीमय,  वसु,  पशुपति,  खालिक,  जगदीश,  धरुण,  कर्ता धर्ता,  मंगलालय,  इश्व,  त्रिलोकी,  अनल,  नाथ,  किबलाआलम,  अश्रय,  अंतर्ज्योति,  वरेश,  जगन्निवास,  शारीरिक तरल,  वसुनीथ,  विश्वभुज,  सद्गुरु,  देवेश,  निशिचर,  आतिश,  मलिनमुख,  दाढ़ा,  भवधरण,  लंबकर्ण,  त्रिलोकेश,  राजन्य,  दिव्य शक्ति,  विंगेश,  त्रिलोकपति,  तपुर्जम्भ,  शिखी,  प्रभु,  शिखि,  वासु,  ईश्वर,  शुचि,  परमानंद,  जातुधान,  परिजन्मा,  बहनी,  भारत,  तमचर,  रञ्जन,  दीनानाथ,  आदिकर्त्ता,  ईश,  ईस,  रक्तप,  नैरृत,  जगन्नु,  दीनबंधु,  प्राकृतिक वस्तु,  जगत्सेतु,  दहराकाश,  वृष्णि,  भगवत्,  विश्वंभर,  तमोनुद,  आश्रयास,  अपदेवता,  बोध,  ज्ञान,  पलादन,  अर्क,  द्यु,  ध्वान्तचर,  अविबुध,  तपु,  संज्ञान,  देवारि,  पित्त,  जगद्योनि,  ईशान,  जगन्नाथ,  जोग,  किबला-आलम,  चिंतामणि,  नरांश,  पलङ्कर,  अगनी,  विश्वप्स,  करतार,  तमाचारी,  अनुशर,  संज्ञा,  पलंकर,  शारीरिक द्रव,  पलंकष,  आज्यमुक,  तरन्त,  विभु,  शारीरिक तरल पदार्थ,  दाहक,  सांई,  अनिलसखा,  क़िबलाआलम,  त्रिपाद,  विश्वपा,  परमात्मा,  तरंत,  जगन्नियंता,  हुतासन,  रेरिहान,  दानव,  बाहुल,  सुरद्विष,  ठाकुरजी,  अर्य,  भान,  करुण,  अवभास,  हृषु,  अशरीर,  नीलपृष्ठ,  जगदाधार,  त्रिलोकीनाथ,  सतगुरु,  अगिन,  निशाचर,  जाने-जाँ,  सोमगोपा,  अखिलात्मा,  यविष्ठ,  जगदीश्वर,  आदिकारण,  विधाता,  हेमकेली,  जल्ह,  अगिआ,  बरही,  निषकपुत्र,  आकाशचारी,  ठाकुर,  ध्वांताराति,  विश्वनाथ,  कर्तार,  पलाग्नि,  आशुशुक्षणि,  अवबोध,  त्रिदशारि,  अविनश्वर,  पवन-वाहन,  साँई,  जाने-जहाँ,  अवगम,