शतानन्द Meaning in English

शतानन्द Meaning in Hindi

  1. 1. भगवान विष्णु का रथ
Usage

1. इस चित्र में भगवान विष्णु शतानंद पर सवार हैं ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 2. एक ऋषि
Usage

1. शतानंद का वर्णन पुराणों में मिलता है ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 3. नवीं शताब्दी में कश्मीर में हुए, अलंकार संप्रदाय के एक प्रमुख आचार्य
Usage

1. आचार्य रुद्रट ने काव्यालंकार नामक ग्रन्थ की रचना की थी ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 4. हिन्दुओं के एक देवता जो सृष्टि के सृजक माने जाते हैं
Usage

1. नारद ब्रह्मा के वरद पुत्र हैं ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 5. यदुवंशी वसुदेव के पुत्र जो विष्णु के मुख्य अवतारों में से एक हैं
Usage

1. सूरदास कृष्ण के परम भक्त थे ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 6. हिन्दुओं के एक प्रमुख देवता जो सृष्टि का पालन करने वाले माने जाते हैं
Usage

1. राम और कृष्ण विष्णु के ही अवतार हैं ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
 
शतानन्द meaning in Hindi, Meaning of शतानन्द in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of शतानन्द

महेन्द्र,  सलिलयोनि,  नन्दलाल,  अब्जज,  शम्भु,  नारायण,  विश्वनाभ,  सुरेश,  चिन्मय,  द्युनिवास,  परमेश्वर,  मुरारी,  मंजुकेशी,  दीनबन्धु,  अन्नाद,  शारंगपाणि,  मंजुप्राण,  कर्त्ता,  विश्वगर्भ,  मुकुन्द,  अर्य्य,  रमाकांत,  शुद्धोदनि,  भवेश,  द्वारकानाथ,  अब्जस्थित,  ब्रह्मा,  भगवान,  स्वर्णबिंदु,  चिन्तामणि,  वंश,  वृषदर्भ,  मुकुंद,  पद्मनाभ,  नन्दकुँवर,  अधिपुरुष,  फणितल्पग,  अमानुष,  लक्ष्मीपति,  विश्वधाम,  देव,  द्वारिकाधीश,  अरिकेशी,  परमपिता,  सत्य-नारायण,  चक्रचारी,  परमानन्द,  कमलेश,  शिखंडी,  कैटभारि,  विश्वपति,  अयोनिज,  क़िबला-आलम,  वंशीधर,  इलाही,  गिरिधारी,  अदित,  जगदानंद,  चतुरानन,  नित्यमुक्त,  ख़ालिक़,  लक्ष्मीकान्त,  शारंगपानि,  दैत्यारि,  भूतकृत,  अखिलेश,  श्रीकृष्ण,  वेध,  कमलनाभि,  पद्म-नाभ,  कमलापति,  ऊपरवाला,  दई,  विश्वकाय,  चिदाकाश,  वासुदेव,  द्वारकाधीश,  यादवेंद्र,  कान्हा,  हृषिकेश,  हिरण्यगर्भ,  द्वारकेश,  राधारमण,  श्याम,  श्रीश,  दम,  वर्द्धमान,  सोमेश,  पौराणीय वस्तु,  त्रयीमय,  अब्जयोनि,  रमारमण,  खालिक,  नंदनंदन,  अमृताशन,  वैकुंठनाथ,  सर्वेश्वर,  अमृतबंधु,  कर्ता धर्ता,  त्रिलोकी,  धंवी,  ब्रजबिहारी,  कृष्णचंद्र,  किबलाआलम,  रमानाथ,  वरेश,  पौराणिक पुरुष,  चक्रपाणि,  सद्गुरु,  देवेश,  अमृततप,  ऋषि,  शंभु,  मनमोहन,  वेदाध्यक्ष,  वैश्वानर,  कंसारि,  त्रिलोकेश,  विट्ठलदेव,  श्रीकांत,  नटराज,  हरि,  दीनानाथ,  आदिकर्त्ता,  ईश,  द्युनिवासी,  ईस,  रमानिवास,  दीनबंधु,  दहराकाश,  प्रजापति,  दुहिन,  सहस्रचित्त,  पूतनारि,  वृष्णि,  अरविंदसद,  हंसारूढ़,  देवता,  गोविन्द,  सोमेश्वर,  महागर्भ,  केशव,  यवनारि,  वेदगर्भ,  सुचिरायु,  जनेश्वर,  नन्दकिशोर,  अहिजित,  शकटारि,  आप्त,  ईशान,  श्रीनिवास,  वारुणीश,  बाणारि,  अक्षर,  नंदकुँवर,  जगन्नाथ,  योगेश,  सहस्रजित्,  विधि,  धन्वी,  विधु,  विश्वप्स,  अरविंदसद्,  गोविन्दा,  कुण्डली,  पूतनासूदन,  नंदकिशोर,  नवलकिशोर,  नन्दनन्दन,  विभु,  सहस्रचरण,  सांई,  गीर्वाण,  क़िबलाआलम,  अनन्तजित्,  रत्ननाभ,  अमर,  त्रिदिवेश,  जगन्नियंता,  जगन्,  साहित्यकार,  गोविंदा,  मधुसूदन,  कुंडली,  वेदीश,  हेमांग,  वसुधाधर,  सत्यनारायण,  अशरीर,  जगदाधार,  गिरधारी,  वृषनाशन,  लक्ष्मीकांत,  रमाकान्त,  द्वारिकानाथ,  अखिलात्मा,  विश्वप्रबोध,  शतानंद,  विपिन विहारी,  जगदीश्वर,  विधाता,  गिरापति,  योगेश्वर,  चक्रपाद,  देवाधिदेव,  कमलनयन,  आकाशचारी,  स्वर्णबिन्दु,  कर्तार,  विश्वग,  अयोनि,  रथ,  अरविन्दसद,  बनवारी,  अविनश्वर,  साँई,  आचरण,  मोहन,  अंबरीष,  गजाधर,  कमलेश्वर,  खगासन,  कामद,  अब्धिशयन,  तार्क्ष्य,  अम्बरीष,  कालियमर्दन,  असुरारि,  जीवेश,  योगीश,  इसर,  ईसर,  रमाधव,  श्रुतिमाल,  तोयात्मा,  अन्तर्यामी,  जगन्नियन्ता,  वृंदारक,  कर्ता,  नंदलाल,  नन्दकुमार,  व्यंकटेश्वर,  विश्वबाहु,  विश्वात्मा,  ब्रह्मदेव,  विश्वभर्ता,  अन्तर्ज्योति,  वनमाली,  दीन-बन्धु,  विरिंचन,  अनन्त-जित्,  अखिलेश्वर,  अष्टकर्ण,  जनार्दन,  सलिल योनि,  श्रीकान्त,  अवतार,  घनश्याम,  कर्ता-धर्ता,  अव्यय,  सलिल-योनि,  अंतर्यामी,  मुनि,  गिरधर,  आदिकर्ता,  सावित्र,  तुंगीश,  गरुड़गामी,  देवेश्वर,  महेंद्र,  रुद्रभ,  प्रधानात्मा,  शतधृति,  कुंजबिहारी,  रुद्रट,  विश्वभावन,  दनुजारि,  कर्ताधर्ता,  सारंगपाणि,  अब्धिशय,  शतपत्र निवास,  अमृतबन्धु,  किशन,  योग,  कामपाल,  शतपत्रयोनि,  दैवत,  गोपाल,  विश्वभाव,  योगीश्वर,  भगवान्,  विश्वम्भर,  सर्व,  सुप्रसाद,  वृष्णिक-गर्भ,  योजन,  शतानंद ऋषि,  वसु,  मृगयू,  वेदेश्वर,  त्रिदिवौकस,  जगदीश,  शतानन्द ऋषि,  अब्जासन,  शवकृत,  मंगलालय,  खरारि,  इश्व,  चक्रेश्वर,  रासबिहारी,  नाथ,  माधव,  खरारी,  नरनारायण,  चिरंजीव,  भट्टारक,  अंतर्ज्योति,  जगन्निवास,  वसुनीत,  विश्वभुज,  अरविन्दयोनि,  बैकुंठनाथ,  विवुध,  अनलमुख,  कृष्ण,  मुरली मोहन,  त्रिविक्रम,  पौराणिक वस्तु,  वरूथी,  दिवौका,  अमरप्रभु,  भवधरण,  इंदिरा रमण,  त्रिलोकपति,  रमेश,  प्रभु,  वासु,  ईश्वर,  महानारायण,  त्रिदश,  परमानंद,  श्रीरमण,  आत्मसमुद्भव,  शिखण्डी,  आदितेय,  विष्णु,  श्रीनाथ,  मुरलीधर,  चक्रधर,  अरविंदयोनि,  धाम,  विश्वधर,  गिरिधर,  जगत्सेतु,  दामोदर,  वर्धमान,  डाकोर,  बलबीर,  भगवत्,  विश्वंभर,  तमोनुद,  हृषीकेश,  वेदबाहु,  अनंतजित्,  शतपत्र -निवास,  अनंत-जित्,  वीरवह,  वेदी,  सुर,  गुपाल,  पितामह,  जगद्योनि,  कन्हैया,  नंदकुमार,  जोग,  देवक,  किबला-आलम,  चिंतामणि,  अजन,  नभश्चर,  करतार,  गोपीश,  वेधा,  रमापति,  अरविन्दसद्,  गोविंद,  पीतवास,  गरुड़ध्वज,  गोपेश,  शकटहा,  धातृ,  आचार्य रुद्रट,  त्रिपाद,  स्थविर,  विश्वपा,  यादवेन्द्र,  परमात्मा,  शेषशायी,  पंकजासन,  वाज,  ठाकुरजी,  अर्य,  अंबरौका,  करुण,  महाभाग,  आत्म-योनि,  कमलनाभ,  जगद्धाता,  वंशीधारी,  अनीश,  त्रिलोकीनाथ,  वीरबाहु,  सतगुरु,  श्रीपति,  महाक्ष,  जाने-जाँ,  मधुप,  मुरलीवाला,  आत्मभू,  आदिकारण,  ऋभु,  ठाकुर,  बकवैरी,  विश्वनाथ,  पुंडरीकाक्ष,  हिरण्यकेश,  परमेष्ठ,  आदित्य,  जाने-जहाँ,  पुराणीय पुरुष,  हंसवाहन,  अच्युत,