शम्बरारि Meaning in English

शम्बरारि Meaning in Hindi

  1. 1. कृष्ण के ज्येष्ठ पुत्र जो रुक्मिणी के गर्भ से उत्पन्न हुए थे
Usage

1. विष्णु पुराण के अनुसार कामदेव ही प्रद्युम्न के रूप में पैदा हुए थे ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 2. एक देवता जो काम के रूप माने जाते हैं
Usage

1. कामदेव को शिव की क्रोधाग्नि का सामना करना पड़ा ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 3. एक देवता जो स्वर्ग तथा देवताओं के अधिपति माने जाते हैं
Usage

1. वेदों में इंद्र की आराधना का उल्लेख है ।

Synonyms
Hypernyms
 
शम्बरारि meaning in Hindi, Meaning of शम्बरारि in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of शम्बरारि

सुरकेतु,  वृत्रारि,  इन्द,  महेन्द्र,  अंड,  दिवेश,  सुरेन्द्र,  पुष्पचाप,  सहस्रनेत्र,  असुरारि,  मघवान,  मीनकेतु,  सुरेश,  दिगीश्वर,  द्युनिवास,  मनोज,  पंचसर,  पाकारि,  शंबरसूदन,  वेत्रहा,  पुष्पध्वज,  मधुसख,  शक्र,  अंगजात,  इंद्रदेव,  अमरराज,  अमरनाथ,  पुष्पधन्वा,  वृंदारक,  कुसुमबाण,  अपांग,  स्वर्पति,  वलहन्ता,  पविधर,  देवेंद्र,  हृदयनिकेतन,  चेतात्मजा,  जराभीस,  अमानुष,  अमरेश्वर,  मदन,  देव,  वसन्तसखा,  रागरज्जु,  देवराज,  मनजात,  पंचशर,  वृत्रवैरी,  अनंग,  रतिवर,  संकल्पभव,  देवेन्द्र,  कुसुमकार्मुक,  दिग्वारण,  प्रसूनवाण,  रुद्रारि,  वज्रधर,  अदित,  विजयंत,  शाक्वर,  सारंग,  अयुग्मबाण,  अनेकलोचन,  पाकहन्ता,  दैत्यारि,  द्युपति,  अनंगी,  महेंद्र,  रंभापति,  अण्ड,  भूतकृत,  त्रिदशपति,  झषकेतु,  पाकहंता,  सुरभानु,  वलहंता,  दौल्मि,  अर्वण,  वलसूदन,  दनुजारि,  असमवाण,  इन्द्रदेव,  रम्भापति,  कुसुमेषु,  वसन्तसख,  चैत्रसखा,  अमृतबन्धु,  मन्नथ,  सुमसायक,  दैवत,  मनमथ,  पुरन्दर,  वसंत-बंधु,  वरेन्द्र,  विषमविखिज,  रमण,  दिवराज,  पुष्पपत्री,  इंदु,  रागवृंत,  धानकी,  वरेंद्र,  दानवारि,  कामदेव,  पौलोम,  कुसुमधन्वा,  झषांक,  कुसुमचाप,  इंदर,  समर,  दिशापाल,  पुष्पायुध,  त्रिदिवौकस,  खदिर,  अमृताशन,  अमृतबंधु,  पाकशासन,  दिगिम,  पूतक्रतु,  अबलासेन,  भट्टारक,  नमुचि,  दिक्पाल,  पौराणिक पुरुष,  मीनकेतन,  श्रीज,  कुसुमायुध,  विश्वभुज,  वलहिष,  देवेश,  इ,  विवुध,  अनलमुख,  अमृततप,  अमरवर,  दिवौका,  अमरप्रभु,  दिक्स्वामी,  अनन्तदृष्टि,  मधुसखा,  वृषाकपि,  मधुसुहृद,  सुरेंद्र,  श्रीपुत्र,  इंद्र,  प्रदुमन,  शिखी,  शिखि,  त्रिदश,  पंचवाण,  लोकाधिपति,  लोकपाल,  पुष्पशर,  श्वेतवाह,  आदितेय,  द्युनिवासी,  मकर ध्वज,  शचींद्र,  शृंगारजन्मा,  मीनध्वज,  मधुसहाय,  जंभारि,  अमराधिप,  वृष्णि,  देवता,  पुष्पकेतन,  दिगदंति,  मनसिज,  चित्तज,  विवुधेश,  कार्ष्णि,  आत्मप,  सुचिरायु,  रागच्छन,  अनंतदृष्टि,  त्रिदशेश्वर,  सुर,  सहस्रचक्षु,  आत्मजात,  दैत्यदानवमर्दन,  तुरासाह,  पुष्पशरासन,  अयुग्मशर,  दिग्राज,  रणरणक,  देवक,  अदेह,  आत्मज,  दिवक्ष,  नभश्चर,  विश्वप्स,  वसन्त-बन्धु,  कंदर्प,  सुरपति,  शंबरारि,  मदनपति,  हरिसुत,  मधुसारथि,  वाम,  रतिनाथ,  इंद,  युयुधान,  शचीन्द्र,  अमरपति,  दिक्पति,  अनन्यज,  रतिराज,  रागवृन्त,  शम्बरसूदन,  त्रिदशाधिप,  रतिनाह,  निषद्वर,  मेघपति,  गीर्वाण,  वसंतसखा,  श्वेतवह,  शारंग,  वरीषु,  यामनेमि,  काम देवता,  मुहिर,  रूपास्त्र,  अमर,  त्रिदिवेश,  शुकवाह,  भव,  वृषण,  दिव-राज,  अप्सरेश,  इन्दर,  अंबरौका,  मदराग,  वृत्रहा,  दिशापति,  अर्,  अशरीर,  स्मर,  इन्दु,  अचलधृष,  इन्द्र,  मधुप,  सुरनाथ,  रवीषु,  त्रिदिवाधीश,  वसंतसख,  वृत्रनाशन,  पचत,  सुरनाह,  असमशर,  अंगहीन,  ऋभु,  अलकेश,  संकल्पयोनि,  बिड़ौजा,  अरब,  सुरनायक,  चेतोजन्मा,  अमर-राज,  आकाशचारी,  मनोभू,  दिगेश,  पंचबाण,  विषमवाण,  पुरंदर,  प्रद्युम्न,  आदित्य,  पुराणीय पुरुष,  सुप्रतीक,  अमरेश,