शिखि Meaning in English

शिखि Meaning in Hindi

  1. 2. एक अत्यंत सुंदर बड़ा पक्षी जिसकी पंखनुमा पूँछ लम्बी होती है
Usage

1. मोर भारत का राष्ट्रीय पक्षी है ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
  1. 3. जलती हुई लकड़ी, कोयला या इसी प्रकार की और कोई वस्तु या उस वस्तु के जलने पर अंगारे या लपट के रूप में दिखाई देने वाला प्रकाशयुक्त ताप
Usage

1. आग में उसकी झोपड़ी जलकर राख हो गई ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
Antonyms
  1. 4. एक देवता जो काम के रूप माने जाते हैं
Usage

1. कामदेव को शिव की क्रोधाग्नि का सामना करना पड़ा ।

Synonyms
Hypernyms
 
शिखि meaning in Hindi, Meaning of शिखि in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of शिखि

नीलकण्ठ,  राजसारस,  अंड,  नैसर्गिक वस्तु,  पुष्पचाप,  असुरारि,  वह्नि,  मीनकेतु,  ध्वांतशत्रु,  ध्वान्ताराति,  पत्रवाह,  रसनारव,  द्युनिवास,  द्विज,  अगिया,  मनोज,  पंचसर,  शाण्डिल्य,  अमिताशन,  शंबरसूदन,  पुष्पध्वज,  अन्तरिक्षसत्,  शिखाधार,  अंतरिक्षसत्,  मधुसख,  अंगजात,  तनूनपाद्,  आतश,  शापटिक,  वृंदारक,  अगिर,  पुष्पधन्वा,  कुसुमबाण,  वृषी,  नभसंगम,  अपांग,  शिखाधर,  चंद्रकी,  हृदयनिकेतन,  चेतात्मजा,  पंखी,  जराभीस,  अमानुष,  नीलकंठ,  मदन,  देव,  कालकवि,  वसन्तसखा,  रागरज्जु,  पर्परीक,  अशिर,  अर्दनि,  मनजात,  तमोहपह,  पंचशर,  आशर,  अनंग,  रतिवर,  शिखंडी,  अग्नि,  संकल्पभव,  विहंग,  कुसुमकार्मुक,  प्रसूनवाण,  ध्वान्तशत्रु,  तनूनपात्,  रुद्रारि,  अदित,  पत्रवाज,  मायूर,  सारंग,  अयुग्मबाण,  लघुलय,  पक्षी,  उड़ु,  पत्ररथ,  शुक्र,  दैत्यारि,  अनंगी,  भूतकृत,  अण्ड,  झषकेतु,  पतंगम,  अगन,  चन्द्रकी,  पावक,  चिड़िया,  दनुजारि,  असमवाण,  कुसुमेषु,  घनप्रिय,  पुँछार,  वसन्तसख,  आगी,  बाहुलग्रीव,  आगि,  पाँखी,  चैत्रसखा,  चित्रभानु,  अमृतबन्धु,  वर्ही,  वर्हा,  मन्नथ,  सुमसायक,  द्विपक्ष,  दैवत,  मनमथ,  खग,  वसंत-बंधु,  विषमविखिज,  रमण,  पुष्पपत्री,  अय,  रागवृंत,  धानकी,  जिह्वारद,  प्रवलाकी,  कामदेव,  मोर,  पंछी,  आग,  पतत्रि,  कुसुमधन्वा,  झषांक,  कुसुमचाप,  तपुर्जंभ,  समर,  वसु,  पशुपति,  पुष्पायुध,  पांखी,  त्रिदिवौकस,  अमृताशन,  धरुण,  अमृतबंधु,  अनल,  भट्टारक,  अबलासेन,  नमुचि,  द्विजाति,  वसुप्राण,  अर्जुन,  मीनकेतन,  श्रीज,  वसुनीथ,  कुसुमायुध,  अहिरिपु,  शुक्लापांग,  विवुध,  इ,  आतिश,  अनलमुख,  अमृततप,  मलिनमुख,  परिन्दा,  दिवाचर,  दिवौका,  दाढ़ा,  वैश्वानर,  वृषाकपि,  पतय,  मधुसखा,  पतम,  राजन्य,  मधुसुहृद,  परिंदा,  विंगेश,  अग्निदेव,  श्रीपुत्र,  तपुर्जम्भ,  शिखी,  शुचि,  त्रिदश,  उड़ुचर,  पंचवाण,  परिजन्मा,  बहनी,  भारत,  पुष्पशर,  शिखण्डी,  आदितेय,  द्युनिवासी,  जगन्नु,  मकर ध्वज,  शुक्रांग,  प्राकृतिक वस्तु,  शृंगारजन्मा,  दीप्ताङ्ग,  पतग,  मीनध्वज,  मधुसहाय,  जंभारि,  वृष्णि,  अर्की,  देवता,  तमोनुद,  आश्रयास,  पुष्पकेतन,  अर्क,  शम्बरारि,  तपस,  मनसिज,  चित्तज,  द्यु,  कार्ष्णि,  तपु,  आत्मप,  सुचिरायु,  केकी,  मित्रविन्द,  वर्षामद,  रागच्छन,  सुर,  आत्मजात,  शुक्रभुज,  पुष्पशरासन,  अयुग्मशर,  देवक,  रणरणक,  अदेह,  आत्मज,  पाखी,  नभश्चर,  पिंगेश,  नीड़ज,  अगनी,  विश्वप्स,  कलापी,  वसन्त-बन्धु,  विहग,  कंदर्प,  नीड़क,  पतंगी,  शंबरारि,  पखेरू,  कुण्डली,  मधुसारथि,  वाम,  रतिनाथ,  आज्यमुक,  अनन्यज,  रतिराज,  रागवृन्त,  शम्बरसूदन,  पतन्,  रतिनाह,  निषद्वर,  दाहक,  गीर्वाण,  अनिलसखा,  वसंतसखा,  शिखावल,  शारंग,  शिखावर,  वरीषु,  सर्पद्विष,  काम देवता,  मुहिर,  अमर,  रूपास्त्र,  त्रिदिवेश,  हुतासन,  शुकवाह,  भव,  बाहुल,  कुंडली,  मित्रविंद,  वसुविद,  मार्जारक,  अंबरौका,  मदराग,  हृषु,  शिखाल,  अशरीर,  ताऊस,  स्मर,  नीलपृष्ठ,  अगिन,  मधुप,  रवीषु,  सोमगोपा,  वसंतसख,  शांडिल्य,  बसंदर,  शिखालु,  यविष्ठ,  पचत,  मयूक,  असमशर,  ऋभु,  अंगहीन,  संकल्पयोनि,  हेमकेली,  मयूर,  मेनाद,  बरही,  दीप्तांग,  जल्ह,  अगिआ,  चेतोजन्मा,  बरहा,  विहंगम,  आकाशचारी,  पत्रती,  ध्वांताराति,  आशुशुक्षणि,  मनोभू,  पंचबाण,  विषमवाण,  पर्णवी,  पवन-वाहन,  आदित्य,  सुप्रतीक,