सौम्या Meaning in English

सौम्या Meaning in Hindi

  1. 1. मांसल चिकनी पत्तियोंवाला एक क्षुप जो औषध के रूप में प्रयुक्त होता है
Usage

1. शुद्ध ब्राह्मी हरिद्वार के आसपास गंगा के किनारे सर्वाधिक पाई जाती है ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 2. हल्दी की जाति का एक पौधा जिसकी जड़ दवा के काम आती है
Usage

1. वैद्य लोग कचूर की जड़ का उपयोग औषध के रूप में करते हैं ।

Synonyms
Hypernyms
  1. 4. एक देवी जिन्होंने अनेक असुरों का वध किया और जो आदि शक्ति मानी जाती हैं
Usage

1. नवरात्र में लोग जगह-जगह दुर्गा की प्रतिमा स्थापित करते हैं ।

Synonyms
Hypernyms
Hyponyms
 
सौम्या meaning in Hindi, Meaning of सौम्या in English Hindi Dictionary. Pioneer by www.aamboli.com, helpful tool of English Hindi Dictionary.
 

Related Similar & Broader Words of सौम्या

नरकचूर,  देवी,  पीलुमूल,  पालिन्दी,  अपर्णा,  पालिंधी,  तृणगंधा,  ध्रुवा,  शुम्भघातिनी,  दुर्गा,  महोग्रा,  शालपर्णी,  कल्पक,  वातघ्नी,  पालिन्धी,  सटि,  मंजुनाशी,  प्रगल्भा,  शुद्धि,  वरा,  चामुंडेश्वरी देवी,  शांभवी,  सरिवन,  शताक्षी,  मीनाक्षी,  जया,  हयग्रीवा,  पालिंदी,  योगीश्वरी,  वज्रा,  पृथुपलाशिका,  शिवसुन्दरी,  विजया,  नन्दिनी,  रुद्र-जटा,  जगदम्बिका,  चामुंडेश्वरी,  सिंहवाहिनी,  शालपत्रा,  ईसानी,  ललिता,  ब्राह्मी,  परमेष्ठिनी,  रुद्र जटा,  मंगलचंडिका,  शालपर्ण,  शाम्भवी,  पीतनी,  महाश्वेता,  त्रिभुवनसुन्दरी,  शिवा,  लावण्या,  कौशिकी,  शारदा,  महाप्रकृति,  त्रिनयना,  गायत्री,  वार्त्ता,  शंभुकांता,  आद्या,  इन्द्राणी,  शिवसुंदरी,  भालचंद्र,  रसबन्धकर,  अपराजिता,  वृषध्वजा,  जल निम्ब,  सोमवल्लरी,  जगन्माता,  जगन्मोहिनी,  जदवार,  विश्वकाया,  इंद्राणी,  अष्टभुजा,  शालानी,  नंदा,  अमृतमालिनी,  ईशानी,  सोमलता,  दीर्घमूला,  सोमवल्ली,  वरालिका,  रुद्रजटा,  मातेश्वरी,  मंगलचण्डिका,  नंदिनी,  भालचन्द्र,  शटी,  पीवरी,  शटि,  कल्याणी,  पौधा,  पेड़-पौधा,  शाटी,  शालिपर्णी,  अस्तमती,  वामदेवी,  महायोगेश्वरी,  त्रिपर्णी,  आदि शक्ति,  नैऋती,  पीतिनी,  त्रिभुवनसुंदरी,  सर्वमंगला,  शिवानी,  कालदमनी,  आर्या,  अपरा,  निश्चला,  नीलपुष्प,  नन्दा,  शुंभघातिनी,  गौतमी,  उग्रा,  वनस्पति,  त्वाष्टी,  चामुंडा,  इड़ा,  धवनि,  रेवती,  कुकुर,  शालिका,  वेधमुख्य,  शुंभमर्दिनी,  शुभंकरी,  वरवर्णिनी,  शुम्भमर्दिनी,  कचूर,  पर्वतात्मजा,  शाटिका,  शुभपत्रिका,  जगदंबिका,  त्रिदशेश्वरी,  तृणगन्धा,  परमेश्वरी,  योगमाता,  जगदंबा,  आदिशक्ति,  महिषासुरमर्दिनी,  चामुण्डा,  अर्कभक्ता,  गठिवन,  बहुभुजा,  रसबंधकर,  भूतनायिका,  त्रिपर्णिका,  माया,  पर्णी,  महामाया,  शम्भुकान्ता,  ईशा,  पौदा,  शाक्री,  वैष्णवी,  ब्राह्मीबूटी,  योगेश्वरी,